Home Business guide Digital marketing क्या है? digital marketing business कैसे करें?

Digital marketing क्या है? digital marketing business कैसे करें?

आज के समय में यदि आपको Digital marketing की अच्छी जानकारी हो, तो आप के लिए किसी भी बिज़नेस में सफल होना काफी आसान हो जाता है।

डिजिटल मार्केटिंग भी अन्य मार्केटिंग की तरह आपके बिज़नेस को कस्टमर के साथ जोड़ने का एक तरीका है।

अंतर केवल इतना है, की डिजिटल मार्केटिंग में आप कम पैसों में अधिक पोटेंशियल कस्टमर तक पहुँच सकते हैं। 

डिजिटल मार्केटिंग इतनी तेजी से ग्रो हो रही है, क्योंकि ऑफलाइन मार्केटिंग उतनी कारगर नहीं है। साथ ही ऑफलाइन मार्केटिंग में कस्टमर का कोई डाटा नहीं रहता।  

Digital marketing क्या है?

आज के समय में हमारे देश में करीब 50% लोग इंटरनेट पर मौजूद हैं। वो लोग दिन में average 4 से 5 घंटे फ़ोन का इस्तेमाल करते हैं।

यदि हम इंटरनेट के द्वारा अपने बिज़नेस  की मार्केटिंग करते हैं तो उसे डिजिटल मार्केटिंग कहते हैं।

इंटरनेट के माध्यम से हमें इतने कस्टमर मिल जाते हैं, की हम अपने बिज़नेस को आसानी से ग्रो कर सकते हैं। 

डिजिटल मार्केटिंग के बहुत से सफल उदहारण हैं जैसे ईमेल मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग और ब्लॉग्गिंग.

digital marketing के प्रकार

आज इंटरनेट पर मौजूद लगभग सब कुक्ष डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत आता है। यह आप और आपके बिज़नेस पर निर्भर करता है, की नीचे दिए गए ऑप्शन में से आप किसे अपनाते हैं।

  • स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO)
  • कंटेंट मार्केटिंग
  • सोशल मीडिया मार्केटिंग 
  • पे-पर-क्लिक (PPC)
  • एफिलिएट मार्केटिंग
  • ईमेल मार्केटिंग
  • स्पोंसरड कंटेंट
  • इनबाउंड मार्केटिंग
  • मार्केटिंग ऑटोमेशन 

ऊपर दी गयी लिस्ट में डिजिटल मार्केटिंग के कुछ महत्वपूर्ण तकनीक है। जिन्हें अब हम विस्तारित करंगे:

स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO)


स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन वो प्रकिया है जिससे आप अपने बिज़नेस को गूगल सर्च रिजल्ट पर रैंक करवा सकते हैं।

यदि आप अपने बिज़नेस के प्रचार में पैसे नहीं लगाना चाते तो स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन आपके लिए अछा ऑप्शन है। 

स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के द्वारा आपको बिना किसी पैसे के आर्गेनिक रैंकिंग से अच्छे विजिटर मिल जाते हैं। 

स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन से लाभ हर कोई नहीं उठा सकते। SEO से लाभ उठाने वालों में वेबसाइट, ब्लॉग और इन्फोग्राफिक्स शामिल हैं।

SEO करने के बहुत से तरीके हैं जिनमें ये कुछ महत्वपूर्ण तरके हैं:

  • ऑन पेज
  • ऑफ पेज 
  • टेक्निकल

ऑन पेज SEO

ऑन पेज SCO में पूरी तरह कंटेंट पर जोर दिया जाता है।

इसमें आप कीवर्ड रिसर्च करके आर्टिकल लिखते हैं, और कीवर्ड सर्च वॉल्यूम का खाश ध्यान रखा जाता है। 

ऑफ पेज SEO

ऑफ पेज SEO में आप ऑफ पेज की उन सभी गतिविधियों का ध्यान रखते हैं, जो आपके बिज़नेस की आर्गेनिक रैंकिंग में प्रभाव डालती हैं। 

अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा यह गतिविधियाँ कौन सी हैं ?

इसका जवाब है, इनबाउंड लिंक जिसे बैकलिंक भी कहते हैं। 

बैकलिंक के लिए आपको अपने से हाई अथॉरिटी साइट के लिए गेस्ट पोस्ट लिखना होगा, और उस पोस्ट से अपने आर्टिकल को लिंक करना होगा। 

सिर्फ यही नहीं सभी सोशल मीडिया पर अकाउंट बना कर अपने आर्टिकल को शेयर कर सकते हैं। इससे आपके आर्टिकल की अथॉरिटी बढ़ेगी जिससे आर्टिकल को गूगल पर रैंक होने में मदत मिलेगी। 

टेक्निकल SEO

टेक्निकल SEO में वेबसाइट के बैकेंड पर काम किया जाता है। 

इससे आपके वेबसाइट का लोडिंग टाइम कम होगा, जो की गूगल के द्वारा रैंकिंग के लिए एक महत्वपूर्ण फैक्टर माना जाता है। 

टेक्निकल SEO में इमेज कम्प्रेशन, CSS फ़ाइल और स्ट्रक्चर्ड डेटा शामिल है। 

कंटेंट मार्केटिंग


कंटेंट मार्केटिंग में हम इंटरनेट पर उपलब्ध कराने के लिए सामग्री का निर्माण और प्रचार करते हैं। 

इसका मुख्य उद्देश्य लीड जनरेशन करना, ब्रांड वैल्यू बनाना, और वेबसाइट पर ट्रैफिक लेकर आना है।

डिजिटल मार्केटिंग में कंटेंट मार्केटिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। जिसमें मुखिया निम्न्लिखित हैं। 

ब्लॉग पोस्ट 

वेबसाइट पर ब्लॉग पोस्ट लिखकर आप अपनी विशेषज्ञता स्थापित कर सकते हैं। जिससे आपको लीड जनरेशन में मदत मिलेगी। 

सिर्फ यही नहीं ब्लॉग पोस्ट लिखने से आप अपने बिज़नेस पर कस्टमर का भरोसा भी पाएंगे यह आपके ऑर्गेनिक विजिटर बढ़ाने का सबसे अच्छा माध्यम है। 

ई-बुक्स और व्हाइटपेपर

ई-बुक्स और व्हाइटपेपर के माध्यम से आप अपने विजिटर को जानकारी विस्तृत में दे सकते हैं। यह आपकी बिकरी को बढ़ाने का एक कारगर तरीका है। 

इन्फोग्राफिक्स

इन्फोग्राफिक्स का मतलब है, आप अपने कंटेंट को कस्टमर को दिखा कर समझाना। 

कंटेंट को समझाने यह सबसे कारगर तरीका माना जाता है।

सोशल मीडिया मार्केटिंग


आज के समय में ज्यादातर लोग सोशल मीडिया पर मौजूद हैं, इसीलिए सोशल मीडिया मार्केटिंग आपके बिज़नेस की अवेयरनेस बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा विकल्प है। 

और यकीन मानिये, सोशल मीडिया आपके बिज़नेस की ब्रांड वैल्यू क्रिएट करने का सबसे बेस्ट तरीका है। 

मार्केटिंग के लिए आप इन सोशल मीडिया प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते हैं।

  1. फेसबुक
  2. ट्विटर
  3. लिंक्डइन
  4. इंस्टाग्राम
  5. स्नैपचैट 
  6. पिनट्रस्ट 

अपने बिज़नेस को एक से अधिक सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर रजिस्टर करना एक सही निर्णेय होगा, ऐसा करने के लिए आपको सोशल मीडिया मैनेज टूल्स का इस्तेमाल करना होगा।

कुछ बेस्ट सोशल मीडिया टूल्स इस प्रकार हैं:-

पे-पर-क्लिक (PPC)


पे-पर-क्लिक मार्केटिंग का एक तरीका है। इसमें आप ऐड नेटवर्क के द्वारा पेड ऐड चलाते हैं। 

आपको इसमें ऐड नेटवर्क को प्रति क्लिक के ही रूपए देने होते हैं। 

PPC के सबसे सामान्य उदाहरण में से एक गूगल एड्स है, इसमें आपसे गूगल सर्च पर शीर्ष पर रखने के लिए रूपए लिए जाते हैं। 

पे-पर-क्लिक मार्केटिंग पर काम करने वाले कुछ और भी एड्स नेटवर्क हैं, जैसे की :-

फेसबुक एड्स: फेसबुक एड्स एक बहुत ही अच्छा ऐड नेटवर्क है यहां पर आप फोटो, वीडियो, और स्लाइडशो के माध्यम से अपने कस्टमर तक पहुंचते हैं। 

फेसबुक आपके पेड ऐड को, आपकी टारगेट ऑडियंस या कस्टमर के न्यूज़फ़ीड में प्रकाशित करता है। 

ट्विटर एड्स: ट्विटर पर आप अपनी टारगेट ऑडियंस के न्यूज़ फ़ीड पर अपने बिज़नेस को पे-पर-क्लिक के द्वारा प्रमोट कर सकते हो 

इसके द्वारा आप अपना बिज़नेस तेज़ी से बढ़ा सकते हैं। ट्विटर एड्स पर वेबसाइट ट्रैफ़िक, अधिक ट्विटर फोल्लोवेर्स , ट्वीट एन्गेजमेन्ट, या यहां तक कि ऐप डाउनलोड भी हो सकता है।

लिंक्डइन मैसेज: लिंक्डइन बिज़नेस से बिज़नेस उद्योग के प्रचार के लिए सबसे अच्छा प्लेटफार्म है।

यहां पर आप अपनी टारगेट ऑडियंस से डायरेक्ट मैसेज के द्वारा जुड़ सकते हैं।  

एफिलिएट मार्केटिंग


एफिलिएट मार्केटिंग में आप किसी और के प्रोडक्ट या सर्विस के लिए लीड जेनरेट करते हो। जिसमें आपको प्रति सेल्स का कुछ कमीशन प्राप्त होता है।

इससे आप बहुत अच्छा पैसा कमा सकते हो भस आपको एफिलिएट मार्केटिंग को बारीकी से समझना होगा – जो आप यहां से सीख सकते हो। 

ईमेल मार्केटिंग


ईमेल मार्केटिंग से सबसे ज्यादा लीडस् जेनरेट होती हैं। क्योंकि इसमें कंपनी अपने कस्टमर से सीधे संवाद करती है। 

इसका इस्तेमाल लीडस् जेनरेट, वेबसाइट ट्रैफिक,बिज़नेस की र्केटिंग आदि के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

ईमेल मार्केटिंग का सबसे बड़ा चैलेंज ईमेल लिस्ट बनाना है, जिसे आप कुछ इस प्रकार से बना सकते हैं।

  • सब्सक्रिप्शन न्यूज़ लेटर के द्वारा 
  • अपने आर्टिकल के साथ फ्री में ई-बुक या ऑडियो बुक देकर

स्पोंसरड कंटेंट


स्पोंसरड कंटेंट में मार्केटिंग करने के लिए आप किसी और को रूपए देते हैं।

वह आपकी कंपनी को परमोट करने और सेल जनरेट करने के लिए कंटेंट पब्लिश करते हैं। 

इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग स्पोंसरड कंटेंट मार्केटिंग का सबसे प्रशिद उद्धारण है। 

Digital marketing क्या काम करते है?

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है, डिजिटल मार्केटर वो होते हैं जो डिजिटल चैनलों के माध्यम से मार्केटिंग करते हैं।

डिजिटल मार्केटर डिजिटल मार्केटिंग करने के लिए  मुफ्त (स्रर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) और पेड (गूगल एड्स), दोनों का ही इस्तेमाल करते हैं।

एक अच्छे डिजिटल मार्केटिंग बिज़नेस को सभी डिजिटल चैनलों के लिए अलग रणनीति अपनानी होती है इस आर्टिकल में दिए गए टूल्स और जानकारी की मदद से कंपनी ही नहीं, बल्कि एक आदमी भी सभी डिजिटल चैनलों का इस्तेमाल कर सकता है। 

क्या Digital marketing सभी व्यवसायों के लिए काम करती है?

अगर हम इस सवाल का जवाब एक लाइन में दें तो, हाँ डिजिटल मार्केटिंग सभी व्यवसायों के लिए काम करती है। 

आज के समय में यदि आप किसी भी बिज़नेस को बड़ा करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कर सकते हो। 

इससे न ही केवल आपका पैसा और समय बचेगा बल्कि, आपके पास अनलिमिटेड ग्रोथ अपॉर्चुनिटी भी होगी। 

हालाँकि, डिजिटल मार्केटिंग सभी बिज़नेस में एक समान काम नहीं करती आपको हर तरह के बिज़नेस के लिए अलग से डिजिटल मार्केटिंग प्लान बनाना होगा,. जैसे की 

B2B बिज़नेस के लिए Digital marketing

यदि आपकी कंपनी बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) सेक्टर में आती है, तो आपके डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा ऑनलाइन लीड जनरेशन पर फोकस करना होगा। 

आपको अपने डिजिटल मार्केटिंग चैनलों के द्वारा अपनी टारगेट कस्टमर के सामने अपनी ब्रांड वैल्यू बनानी होगी। 

साथ ही आपके इन्डेरिक्ट कंटेंट में ये भी सामिल होना चाहिए की आपके कस्टमर का आपके प्रोडक्ट से क्या लाभ है।

इससे आपका टारगेट कस्टमर खुद ही आपकी कंपनी को कांटेक्ट करेगा। 

B2C Business के लिए Digital marketing

अब अगर आपकी कंपनी बिजनेस-टू-कस्टमर सेक्टर में शामिल है, तो आपको कस्टमर जरनी को आसान बनाना होगा। 

कस्टमर जरनी का मतलब होता है, कस्टमर के सेल्स पेज पर आने से लेकर आपका प्रोडक्ट या सर्विस खरीदने तक का सफर।

आपका जो सेल्स पेज का कंटेंट है, वो आपके प्रोडक्ट की वैल्यू को जस्टिफाई करता हो।

यानि की, यदि कस्टमर आपको एक अमाउंट पैसे दे रहा है। तो आपके सेल्स पेज में ये होना चाहिए, की आप उस पैसे से ज्यादा वैल्यू उस कस्टमर को कैसे दे रहे हो।

यह भी पढ़ें:- 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बिजनेस प्लान क्या है और केसे बनाये ?

What is business plan ? How to make business plan -बिजनेस प्लान क्या है और केसे बनाये ? बिजनेस प्लान क्या है ? बिजनेस प्लान एक...

30+ Low Investment Business Ideas in Hindi

30+ Low Investment Business Ideas in Hindi - 30 कम पूंजी मे आपना बिजनेस शुरु करने के नये आइडियास इन हिंदी | Top low Investment...

How to start a blogging in hindi ? ब्लॉगिंग कैसे शुरू करें Guide for 2020

How to start a blogging in hindi ?  आज में आप को step-by-step blogging hindi मे बताऊंगा। यह उतना जटिल नहीं है जितना कई लोग...

Digital marketing क्या है? digital marketing business कैसे करें?

आज के समय में यदि आपको Digital marketing की अच्छी जानकारी हो, तो आप के लिए किसी भी बिज़नेस में सफल होना काफी आसान हो...

Recent Comments