Home Education programming in hindi - प्रोग्रामिंग क्या है? और प्रोग्रामिंग कैसे सीखे?

programming in hindi – प्रोग्रामिंग क्या है? और प्रोग्रामिंग कैसे सीखे?

programming in hindi – प्रोग्रामिंग क्या है? और प्रोग्रामिंग कैसे सीखे? , आज के इस डिजिटल युग में कंप्यूटर इतना स्मार्ट हो गया है की हजारों कैलकुलेशन एक साथ एक ही सेकंड में कर सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कंप्यूटर अपने आप से कुछ भी नहीं कर सकता उसे हम जो इंस्ट्रक्शन बाहर से देते हैं वह उन्हीं को फॉलो करके काम करता है। 

लेकिन यह इंस्ट्रक्शन हम उसे कैसे दे सकते हैं? क्योंकि कंप्यूटर एक मशीन है, वह हमारी आम भाषा जैसे हिंदी और इंग्लिश नहीं समझ पाता! तो फिर कंप्यूटर कौन सी भाषा समझता है? यह सब जानने से पहले हम यह जान लेते हैं की प्रोग्रामिंग क्या होता है। 

प्रोग्रामिंग क्या है? – What is programming in hindi ?

प्रोग्रामिंग एक ऐसी प्रोसेस है जिसके द्वारा प्रोग्राम बनाए जाते हैं और प्रोग्राम निर्देशों का सम्मुचय है जो कंप्यूटर को निर्देश देने का काम करता है। प्रोग्राम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की मदद से बनाए जाते हैं, जैसे कि JavaScript, Python, C++ आदि।

What is Programming?

प्रोग्रामिंग एक निर्देश का एक सेट बनाने की प्रक्रिया है जो कंप्यूटर को बताती है कि किसी कार्य को कैसे करना है। प्रोग्रामिंग को विभिन्न प्रकार की कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग करके किया जा सकता है।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का वर्गीकरण – Classification of programming languages in hindi

आज के समय में हजारों प्रोग्रामिंग लैंग्वेज उपलब्ध है। जोकि अलग-अलग काम के लिए बनाई गई है। कंप्यूटर लैंग्वेज को हम निम्नलिखित बेसिक 3 तरीके से क्लासिफाई करते हैं –

Classification of programming languages

मशीन लैंग्वेज – MACHINE LANGUAGES in hindi

मशीन लैंग्वेज बाइनरी डिजिट या बिट्स का एक संग्रह है जिसे कंप्यूटर आसानी से इंटरप्रिटेड कर सकता है। मशीन लैंग्वेज एकमात्र ऐसी भाषा है जिसे कंप्यूटर समझने में सक्षम है।

What is a binary unit?

बाइनरी यूनिट्स या बिट डेटा की सबसे छोटी इकाई है जिसे कंप्यूटर सिस्टम पर दर्शाया जा सकता है। एक बिट में या तो मान 1 या 0 हो सकता है

किसी प्रोग्राम के लिए सटीक मशीन लैंग्वेज कंप्यूटर पर ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा भिन्न हो सकती है। ऑपरेटिंग सिस्टम यह निर्धारित करता कि एक कंपाइलर मशीन भाषा में एक प्रोग्राम या एक्शन कैसे लिखता है।

कंप्यूटर प्रोग्राम एक या अधिक प्रोग्रामिंग भाषाओं में लिखे जाते हैं, जैसे C ++, Java कंप्यूटर प्रोग्राम बनाने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को कंप्यूटर सीधे समझ नहीं सकता है, इसलिए प्रोग्राम कोड को संकलित किया जाता है। एक बार प्रोग्राम का कोड संकलित हो जाने पर, कंप्यूटर इसे समझ सकता है क्योंकि प्रोग्राम का कोड मशीन की भाषा में बदल जाता है।

MACHINE LANGUAGES के उदाहरण

नीचे “hindiwaale” शब्द को बायनरी लैंग्वेज के उदाहरण के तौर पर लिखा गया है।

[su_note note_color=”#f1f1f1″ text_color=”#000000″ radius=”0″]01001000 01001001 01001110 01000100 01001001 01010111 01000001 01000001 01001100 01000101[/su_note]

असेम्बली लैंग्वेज – ASSEMBLY LANGUAGES in hindi

असेम्बली लैंग्वेज ASM के रूप में जानी जाती है। असेंबली भाषा एक लो-लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।

What is low-level language in hindi?

एक low-level language एक प्रोग्रामिंग भाषा है, जो प्रोग्रामिंग अवधारणाओं का बहुत कम या कोई अमूर्त प्रदान करती है जो इसे वास्तविक मशीन निर्देशों को लिखने के बहुत करीब बनाते हैं।

असेंबली लैंग्वेज में लिखे गए प्रोग्राम्स को एक असेंबलर द्वारा संकलित किया जाता है। प्रत्येक असेंबलर की अपनी असेंबली लैंग्वेज होती है, जिसे एक स्पेसिफिक कंप्यूटर आर्किटेक्चर के लिए डिज़ाइन किया गया है।

मशीन लैंग्वेज संख्याओं की एक श्रृंखला है, जिसे पढ़ना हमारे लिए आसान नहीं है। असेम्बली लैंग्वेज का उपयोग करके, प्रोग्रामर हमारे पढ़ने योग्य प्रोग्राम लिख सकते हैं जो लगभग मशीन भाषा के अनुरूप हैं।

low-level language उपयोगी होती हैं क्योंकि उनमें लिखे गए कार्यक्रमों को बहुत तेज़ गति से चलाने के लिए और बहुत कम मेमोरी फुटप्रिंट के साथ तैयार किया जा सकता है। हालांकि, उन्हें उपयोग करना कठिन माना जाता है क्योंकि इसके लिए मशीन लैंग्वेज के गहन ज्ञान की आवश्यकता होती है।

उच्च स्तरीय भाषा – HIGH-LEVEL LANGUAGES in hindi

हाई लेवल लैंग्वेज HLL के रूप में जानी जाती है। हाई लेवल लैंग्वेज एक कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा है जो कंप्यूटर द्वारा सीमित नहीं है। हाई लेवल लैंग्वेज एक विशिष्ट जॉब के लिए डिज़ाइन की गई है, और समझने में आसान है।

हाई लेवल लैंग्वेज मानव भाषा से अधिक मिलती है और कंप्यूटर लैंग्वेज से कम मिलती है। हालांकि, एक कंप्यूटर को हाई लेवल लैंग्वेज के साथ बनाए गए प्रोग्राम को समझने और चलाने के लिए, इसे मशीन लैंग्वेज में संकलित किया जाना जरूरी है।

आज, हाई लेवल लैंग्वेज व्यापक उपयोग में हैं। इनमें BASIC, C, C ++, COBOL, FORTRAN, Java, Pascal, Perl, PHP, Python, Ruby और Visual Basic शामिल हैं।

आपने क्या सीखा

ऊपर दिए गए आर्टिकल programming in hindi – प्रोग्रामिंग क्या है? और प्रोग्रामिंग कैसे सीखे? में आज आपने पढ़ा की प्रोग्रामिंग जा होती है प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का वर्गीकरण बायनरी यूनिट आदि हमें पूरा विश्वास है कि आप हमारे आर्टिकल से बहुत कुछ सीख पाए हैं। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

vijay mallya (kingfisher)

dairy farming in hindi

laghu udyog kya hai

mudra loan

Recent Comments