Home Business ideas Tissue paper बनाने का business कैसे शुरू करें? Tissue paper manufacturing business

Tissue paper बनाने का business कैसे शुरू करें? Tissue paper manufacturing business

क्या आप Tissue paper बनाने का बिजनेस शुरू करना चाहते हो?

यह आपके लिए best startup idea होने वाला है। इसीलिए  मैं आपको tissue paper बनाने के बिजनेस के बारे में संपूर्ण जानकारी दूंगा।

Tissue paper की मार्केट में डिमांड

टिशू पेपर बहुत सारी जगहों पर इस्तेमाल किया जाता है जैसे रेस्टोरेंट्स, होटल्स, पार्टीज, दुकाने, पार्लर आदि। इसीलिए टिशू पेपर की डिमांड मार्केट में बहुत अधिक है। 

यही नहीं  कोरोना वायरस के कारण आज हर कोई हेल्थ कॉन्शियस हो गया है। जिसके कारण लोग आम जिंदगी में भी टिशु पेपर का इस्तेमाल करने लगे हैं। जिसकी वजह से मार्केट के अंदर इसकी डिमांड बहुत तेजी से बढ़ी है। 

ऐसे मैं आपके लिए टिशू पेपर बनाने का बिजनेस सबसे बेस्ट स्टार्टअप हो सकता है। 

किसी भी बिजनेस शुरू करने से पहले उसके बारे में संपूर्ण जानकारी होना आवश्यक है। इसीलिए आज हम आपको टिशू पेपर मैन्युफैक्चर बिजनेस की जानकारी दे रहे हैं। आपको इस आर्टिकल में दी गई जानकारी को ध्यान पूर्वक आखरी तक पढ़ना है। 

आवश्यक मशीनरी

टिशू पेपर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए कागज नैपकिन, किनारे सील और काटने की मशीन के लगाव के साथ दो रंग की फ्लेक्सोग्राफिक मशीन की आवश्यकता होगी। 

इनका बजट लगभग 5 से 6 लाख तक होगा। 

कच्चे माल की आवश्यकता

Tissue paper मैन्युफैक्चरिंग उद्योग में कम से कम कच्चे माल की आवश्यकता होती है। टिशू पेपर की कच्ची सामग्री निम्नलिखित है। 

जंबो रोल, यदि आप टिशु पेपर को रंगना चाहते हैं तो आपको अलग-अलग रंगों को खरीदने की आवश्यकता है।

इनकी कीमत वजन और गुणवत्ता के आधार पर तय होती है। जो लगभग 50 से 70 रुपए प्रति किलोग्राम है। 

इसे भी पढ़ें – Best Online business idea for 2020

लीगल फॉर्मेलिटीज

टिशू पेपर manufacturing business शुरू करने के लिए आपको निम्नलिखित legal work को करने की आवश्यकता है। 

बिजनेस रजिस्ट्रेशन

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले कंपनी के नाम से रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। कंपनी का नाम आपके बिजनेस की पहचान होती है।

आप अपनी कंपनी का नाम 6 प्रकार से रजिस्टर करवा सकते हैं। कंपनी रजिस्टर करवाने से आपको कई प्रकार के कानूनी लाभ मिलते हैं।

MSME रजिस्ट्रेशन

MSME अर्थात सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग। MSMED अधिनियम को छोटे और मध्यम वर्ग के व्यवसाय को योजनाओं और सब्सिडी के माध्यम से बढ़ावा देने के लिए लागू किया गया है।

इन सुविधाओं का लाभ उठाने के उद्योगों के पास एमएसएमई रजिस्ट्रेशन होना जरुरी है।

MSME रजिस्ट्रेशन से व्यापारियों को सरकार के द्वारा अनेक प्रकार अनेक प्रकार के लाभ मिलते हैं जैसे निम्न ब्याज दर, उत्पाद शुल्क छूट, कर सब्सिडी, बिजली शुल्क सब्सिडी और पूंजी निवेश सब्सिडी।

udyogaadhaar.gov.in पर जाकर आप MSME रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन कर सकते हो। आवेदन अप्रूव होने के बाद MSME पंजीकरण प्रमाणपत्र जारी किया जायेगा।

टैक्‍स डिडक्‍शन एंड कलेक्‍शन अकाउंट नंबर

टैक्‍स डिडक्‍शन एंड कलेक्‍शन अकाउंट नंबर को TAN भी कहा जाता है। TAN नंबर आयकर विभाग के द्वारा बिजनेस को दिया जाता है। 

सरकार के द्वारा टैक्स में दी जाने वाली छूट पाने के लिए और टैक्स भरने के लिए इस नंबर की आवश्यकता होती है। 

TAN नंबर के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन किया जाता है। TAN नंबर के  आवेदन के लिए किसी भी प्रकार के दस्तावेज की आवश्यकता नहीं होती। 

TAN नंबर धारक के लिए प्रत्येक 3 महीने में TDS रिटर्न भरना अनिवार्य है। 

कंपनी के लिए PAN कार्ड

Permanent Account Number (PAN) आयकर विभाग के द्वारा जारी किया जाता है। भारत में प्रत्येक व्यक्ति या कंपनी के लिए पैन नंबर अनिवार्य है किसी भी कंपनी के लिए एक से अधिक पैन रखना गैरकानूनी है।

ट्रेड लाइसेंस

सभी व्यापारियों को किसी भी व्यापार को करने के लिए एक ट्रेड लाइसेंस लेना आवश्यक होता है। बिना ट्रेड लाइसेंस के व्यापार को अवैध माना जाता है जिसके कारण आप पर कानूनी कार्यवाही भी हो सकती है।

राज्य सरकार स्थानीय नगर निगम के साथ मिलकर यह लाइसेंस जारी करती है। ट्रेड लाइसेंस के लिए ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं

GST रजिस्ट्रेशन

गुड्स एंड सर्विस टैक्स यानी कि GST, भारत में किसी भी प्रोडक्ट या सर्विस की आपूर्ति करने वाले हर व्यक्ति या कंपनी (जो 20 लाख से ज्यादा का व्यापार करते हो) के लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। 

जीएसटी कराने का प्रकार किसी भी कंपनी या व्यक्ति के बिजनेस पर निर्भर करता है। gst.gov.in पर जाकर आप जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन कर सकते हैं। जीएसटी ना होने पर न्यायिक प्रक्रिया के तहत दंड या जुर्माना भी लगाया जाता है। 

नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) 

NOC प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के द्वारा जारी किया जाता है। सीवेज, गैस, बायोमेडिकल कचरे या खतरनाक कचरे के उत्पादन, निपटान, भंडारण या परिवहन में शामिल किसी भी उद्योग के लिए NOC लेना अनिवार्य है। 

उद्योग क्षेत्र के बाहर उद्योग करने या कृषि भूमि का इस्तेमाल उद्योग के लिए करने पर भी NOC लेना आवश्यक है। 

NOC के लिए ऑनलाइन आवेदन की सुविधा भी उपलब्ध है। 

फैक्ट्री लाइसेंस

किसी भी क्षेत्र में मैन्युफैक्चरिंग करने के लिए उद्योगों के पास फैक्ट्री लाइसेंस होना चाहिए। किसी बिल्डिंग का निर्माण या फैक्ट्री के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए भी फैक्ट्री लाइसेंस का होना अनिवार्य है। 

फैक्ट्री लाइसेंस चीफ इंस्पेक्टर या राज्य सरकार के द्वारा जारी या जाता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Demat and Trading account (Upstox) कैसे खोलें?

क्या आप Demat and Trading account खोलना चाते हैं? लेकिन आपको अकाउंट खोलना नहीं आता, कोई बात नहीं।  हम आपको आसान भाषा में डीमैट अकाउंट...

Demat account क्या है?

भारत में Demat account, 1996 में शुरू किया गया। जिसने भारतीय शेयर बाजार की दिशा को एक नई तेजी दी। डीमैट अकाउंट शुरू किए...

Intraday Trading क्या होती है? Intraday Trading कैसे शुरू करे?

सरल भाषा में Intraday Trading का मतलब होता है एक ही दिन में स्टॉक खरीदना और बेचना। इंट्राडे ट्रेडिंग, में कंपनी के शेयर को निवेश...

IPO क्या है?

IPO क्या है? क्या आप IPO के बारे में संक्षिप्त में जानना चाहते हैं? चलिए हम आपको बताते हैं की IPO क्या है? और...

Recent Comments